कील – मुंहासे को दूर करने का तरीका |

आयुर्वेदिक तरीके से चेहरे की कील – मुंहासे 
को किस प्रकार दूर करें :-
कील – मुंहासे को दूर करने का तरीका
कील – मुंहासे को दूर करने का तरीका 
कील मुंहासे की समस्या आम हो गई | इस समस्या से दुनिया की हर दूसरी महिला परेशान है | चेहरे पर मुंहासे हो जाने पर बहुत सारे दाने हो जाते है जो बहुत दिनों तक ठीक नही होते | इन्ही मुंहासो को एक्ने भी कहते है | यदि इनका समय पर उपचार नही किया गया तो ये और भी बढ़ सकती है | एक्ने युवावस्था के समय शरीर के हार्मोन्स में बदलाव होते है जिसके कारण एक्ने की समस्या हो जाती है |  मुंहासे को हम आयुर्वेदिक तरीका अपनाकर ठीक कर सकते है |

यदि मुंहासे अधिक हो जाते है तो चेहरे के रोम छिद्र चिपचिपे हो जाते है | जिसके कारण छिद्र बंद हो जाते है | उनमे बैक्टीरिया जन्म ले लेते है | जिसके कारण मुंहासे और भी अधिक सक्रिय हो जाते है |इन्हें ठीक करने के लिए आप कई महंगी - महंगी क्रीम का उपयोग करते है लेकिन कोई असर नही होता | इनका प्रयोग करने से एक बार तो ये दब जाती है लेकिन बाद में दोबारा आ जाते है | कील – मुंहासे से चेहरा बेकार लगने लगता है | यह स्किन का एक तरह से विकार होता है | जिसे हम पूरी तरह से दूर नही कर पाते | लेकिन आयुर्वेदिक तरीके से हम इन्हें जड़ से खत्म कर सकते है | आज हम आपको कील – मुंहासे को दूर करने के लिए आयुर्वेदिक नुस्खों के बारे में बता रहे है |
चिरौंजी और दूध
चिरौंजी और दूध 

1.  चिरौंजी का उपयोग :- गाय के ताज़े दूध में चिरौंजी को बारीक़ करके पीस लें और एक लेप तैयार कर लें | इस लेप को चेहरे और गर्दन पर अच्छी तरह से लगा लें | जब यह लेप सूख जाए तो ठंडे पानी के साथ चेहरे को धो लें | इस प्रकार के उपयोग को करने से कुछ ही दिनों में एक्ने की समस्या कम हो जाती है या फिर दूर हो जाती है |
 
मसूर की दाल का फेस पैक
मसूर की दाल का फेस पैक 

2. मसूर की दाल :- दो बड़े चम्मच मसूर की दाल को बारीक़ करके पीस लें | इस पीसे हुए दाल में थोडा सा घी और दूध मिलाकर अच्छी तरह से फेंट लें | इस मिश्रण का लेप अपने चेहरे पर लगायें |इससे कील – मुंहासे जड़ से खत्म हो जाते है |

3. चमेली का तेल :- चमेली के तेल को सुहागा में मिलाकर एक मिश्रण बनाएं | इस मिश्रण को रात के समय चेहरे पर मसल लें | अगले दिन सुबह के समय बेसन में थोडा सा पानी डालकर गाढ़ा लेप बनाकर चेहरे पर लगाकर अच्छी तरह से मसलें | इसे कम से कम 5 मिनट तक मसलें | इसके बाद पानी से चेहरे को साफ़ कर लें | इस उपाय को करने से चेहरे की जलन ठीक हो जाती है और साथ ही साथ कील – मुंहासे भी दूर हो जाते है |
जायफल का उपयोग
जायफल का उपयोग 

जायफल का उपयोग :- एक्ने की समस्या को दूर करने के लिए जायफल का भी उपयोग किया जाता है | इसे किस प्रकार से उपयोग करना है  | इसे किस तरह से उपयोग करना है | हम आपको बता रहे है |
उपयोग करने का तरीका :-  एक साफ़ लो | इस पर डालकर जायफल को घिस लें | घिसने पर इससे निकले हुए लेप को चेहरे पर कम से कम 10 मिनट तक लगाकर छोड़ दें | इसके बाद ताज़े पानी के साथ चेहरे को धो लें | इस उपचार से कील – मुंहासे ठीक हो जाते है |

इन सभी उपाय के आलावा आप और भी अन्य उपाय कर सकते है | जिसका वर्णन इस प्रकार से है |
आपके आस – पास आयुर्वेदिक दुकानों से शुद्ध टंकण और शक्ति पिष्टी की 10 – 10 ग्राम की मात्रा खरीदकर एक कांच की शीशी में भर लें | अब इन दोनों अयुर्वेद्की औषधि का थोडा – थोडा पावडर लेकर इसमे शहद मिलाकर एक पेस्ट तैयार लें | इस पेस्ट को कील – मुंहासे पर लगायें और लगभग 10 मिनट के बाद चेहरे को हल्के गर्म पानी से पोछ लें | इस उपचार को करने से कील – मुंहासे दूर हो जाते है |
आयुर्वेदिक तरीके से एक्ने को दूर
आयुर्वेदिक तरीके से एक्ने को दूर 

वचा , लोध्र और धनिये की बराबर की मात्रा ले | इन तीनो को बारीक़ करके पीस लें और कांच की शीशी में भर लें | अब थोड़े से कच्चे दूध में एक चम्मच इन तीनो के मिश्रण को डाल दें और अच्छी तरह से मिक्स करके एक लेप बनाएं | इस लेप को चेहरे की कील – मुंहासे पर लगायें | लगभग आधे घंटे के बाद चेहरे को पानी से धो लें |

 सेंधा नमक , वचा , लोध्र और सफेद सरसों के दाने की २० से 25 ग्राम की मात्रा में ले | इन सभी को बारीक़ पीसकर चूर्ण बना लें | बने हुए चूर्ण की एक चम्मच की मात्रा को पानी में मिलाकर एक लेप बनाएं | इस लेप को कील – मुंहासे पे लगायें और लगभग 15 से 20 मिनट के बाद चहरे को पानी से धो लें | इस तरह के उपचार को करने से कुछ ही दिनों में कील – मुंहासे दूर हो जाते है |
कील - मुंहासे को दूर करे वट वृक्ष की पत्तियां
कील - मुंहासे को दूर करे वट वृक्ष की पत्तियां  

वट वृक्ष की नर्म और छोटी पत्तियाँ लोध्र , लाल चन्दन ,और मसूर आदि को एक बराबर मात्रा में लें | इन सभी की कम से कम 10 – 10 ग्राम की मात्रा लें और बर्क चूर्ण बना लें | अब एक चम्मच बारीक़ चूर्ण में पानी मिलाकर लेप तैयार कर लें | इस लेप को कील – मुंहासे पर लगायें और लगभग २० मिनट के बाद पानी से धो लें | इस प्रकार के उपचार का प्रयोग करके आप कील – मुंहासे की समस्या से छुटकारा पा सकते है |
निखरती हुई स्किन
निखरती हुई स्किन 
एक्ने यानि कील – मुंहासे की समस्या से बचने के लिए चेहरे की साफ़ – सफाई रखना भी जरूरी है | तभी आप आयुर्वेद के तरके को अपनाकर लाभ प्राप्त कर सकते है | चेहरे को साफ रखने के लिए चेहरे को पानी से धोएं और कम से कम मेकअप करें | गर्मियों के समय में हमे केवल वाटरप्रूफ मेकअप का उपयोग करना चाहिए | तो दोस्तों ये थे हमारे कुछ आयुर्वेदिक टिप्स जिनका उपयोग करके आप कील – मुंहासे से अपनी स्किन को बचा सकते| 



कील – मुंहासे को दूर करने का तरीका | Keel – Munhase Ke Hone Ka Karan , Ayurvedik Trike Se Dur Kren Keel -Munhase |  




1 comment:


http://ayurvedhome.blogspot.in/2015/09/pet-ke-keede-ka-ilaj-in-hindi.html







http://ayurvedhome.blogspot.in/2015/08/manicure-at-home-in-hindi.html




http://ayurvedhome.blogspot.in/2015/11/importance-of-sex-education-in-family.html



http://ayurvedhome.blogspot.in/2015/10/how-to-impress-boy-in-hindi.html


http://ayurvedhome.blogspot.in/2015/10/how-to-impress-girl-in-hindi.html


http://ayurvedhome.blogspot.in/2015/10/joint-pain-ka-ilaj_14.html





http://ayurvedhome.blogspot.in/2015/09/jhaai-or-pigmentation.html



अपनी बीमारी का फ्री समाधान पाने के लिए और आचार्य जी से बात करने के लिए सीधे कमेंट करे ।

अपनी बीमारी कमेंट करे और फ्री समाधान पाये

|| आयुर्वेद हमारे ऋषियों की प्राचीन धरोहर ॥

अलर्जी , दाद , खाज व खुजली का घरेलु इलाज और दवा बनाने की विधि हेतु विडियो देखे

Allergy , Ring Worm, Itching Home Remedy

Home Remedy for Allergy , Itching or Ring worm,

अलर्जी , दाद , खाज व खुजली का घरेलु इलाज और दवा बनाने की विधि हेतु विडियो देखे

Click on Below Given link to see video for Treatment of Diabetes

Allergy , Ring Worm, Itching Home Remedy

Home Remedy for Diabetes or Madhumeh or Sugar,

मधुमेह , डायबिटीज और sugar का घरेलु इलाज और दवा बनाने की विधि हेतु विडियो देखे