ऋषिकेश एक धर्मिक स्थल | हरिद्वार शिव की नगरी |

हरिद्वार में ऋषिकेश की यात्रा :-
ऋषिकेश एक धर्मिक स्थल
ऋषिकेश एक धर्मिक स्थल 

 भारत के उत्तराखंड में हरिद्वार से गंगोत्री के बीच अनेक तीर्थ स्थल है | जंहा पर आप अपने परिवार के साथ छुट्टियों में जा सकते है और यात्रा का आनन्द उठा सकते है | यदि आपको एक सप्ताह की छुट्टी पर जाना है तो आप हरिद्वार की यात्रा कर सकते है | यह एक खुबसुरत पहाड़ी इलाका है | जंहा पर कलकल करती नदियाँ आपका मन मोह लेंगी | इस स्थान के तीर्थ स्थल घूमने का मौसम मई से पहले या अंतिम सप्ताह में शुरू होता है | इस स्थान पर पंडित शाशत्रों के अनुसार पंचांग देखकर मंदिर के दरवाजे खोलने की घोषणा करते है | इसी तरह से दशहरे के समय पर इस बात की घोषणा की जाती है कि मंदिर के दरवाजे कब बंद होंगे |
हरिद्वार भगवान शिव की नगरी
हरिद्वार भगवान शिव की नगरी

हरिद्वार को भगवान शिव की नगरी कहते है | जो गंगा तट के समीप है | इसे पुराणों में मायापूरी क्षेत्र कहा जाता है | हरिद्वार भारत के सात पवित्र जगहों में से एक है | हरिद्वार में स्थित हर की पौड़ी को ब्रह्मकुंड कहा जाता है | हर की पौड़ी पर कुंभ का मेला आयोजित किया जाता है | यह एक बहुत बड़ा कुण्ड है जंहा कमर तक पानी रहता है | गंगा की मुख्य धारा इसी स्थान से निकलकर बहती है | जिसका आगे चलकर दूसरा नाम बन जाता है | यंहा की आरती विश्वभर में प्रसिद्ध है | हरिद्वार में अनेकों ऐसे मन्दिर , कुण्ड ,स्नान घाट है जो पूरी दुनिया में मशहुर है | हरिद्वार में लोग गंगा स्नान करने के लिए आते है | यंहा आनेवाले तीर्थ यात्री गंगा जल ले जाना नही भूलते क्योकि इस गंगा का पानी हमेशा शुद्ध रहता है | हरिद्वार में भारत की सबसे पवित्र माने जाने वाली गंगा नदी हमेशा बहती रहती है | जो की यात्रियों का मुख्य आकर्षण केंद्र बिंदु है | 

हरिद्वार के पास देहरादून के मोहंड से शुरू होकर लाल धाम तक के क्षेत्र में फैला हुआ है | राजा जी नेशनल पार्क इसी हिस्से में आता है | यह बहुत बड़ा भाग है | यंहा पर सफेद हाथी खास तौर पर प्रसिद्ध है | इसके आलावा इस पार्क में कई दुर्लभ वन्यजीव भी देखे जाते है |
 यंहा पर एक पुराना बाजार भी है | यह बाजार गंगा के किनारे दूर तक फैला हुआ है | इस बाजार के दोनों तरफ़ दुकाने ही दुकाने है |इस स्थान पर काफी भीड़ देखने को मिलती है |  यंहा पर टूरिस्ट खरीदारी करने के लिए आते है | पूराने बाजार को बड़ा बाजार के नाम से जाना जाता है | 
मनसा देवी का मंदिर
मनसा देवी का मंदिर 
हरिद्वार में ऋषिकेश एक खूबसूरत स्थान है | यदि आप ऋषिकेश के थोडा सा दूर जाते है तो नरेंद्र नगर नाम का छोटा सा शहर है जो पहाड़ों के बीच में है | यंहा पर एक कांजीपूरी मंदिर है | इसके आलावा यंहा एक महल भी है जिसे होटल का रूप दे दिया गया है | इस होटल से ऋषिकेश की पूरी घाटी का दृश्य दिखाई देता है | इससे ठीक आगे चंबा और न्यू टिहरी है | उत्तराखंड में अनेक धार्मिक स्थल है | जंहा पर लाखों श्रधालुओं का आना – जाना लगा रहता है | इस स्थान की यात्रा करते समय अनेक सुंदर – सुंदर दृश्य देखने को मिलते है | जैसे – वाटर फाल , ऊँचे – ऊँचे पहाड़ और गहरी नदियाँ आदि | ये सभी नजारे आपकी यात्रा को और भी आनन्ददायक बना देता है |

ऋषिकेश :- यह स्थान हरिद्वार से लगभग 25 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है | इस स्थान पर घूमने में पूरा एक दिन लग जाता है | यंहा पर अनेक दर्शनीय स्थान है जो देखने लायक है | अनेकों मंदिर है जंहा मनुष्य पूजा कर सकता है | जैसे :- मनसा देवी का मंदिर , माया देवी का मंदिर , चंडी देवी का मंदिर , कांगड़ी माता का मंदिर , भीम गोडा तालाब , सप्त ऋषि आश्रम , दक्ष प्रजापति का मंदिर और भारत माता का मंदिर आदि | इन स्थानों में से कई स्थानों के दर्शन करने के लिए आप रोपवे का आनन्द ले सकते है |
कुम्भ का मेला
कुम्भ का मेला 
ऋषिकेश के सम्बन्ध में अनेक कहानियाँ प्रचलित है | कहा जाता है कि समुन्द्रमंथन् करते समय जो विष निकला था | उस विष को भगवान शिव ने इसी स्थान पर पिया था | विष पीने के बाद उनका कंठ नीला हो गया था | इसके बाद भगवान शिव को नीलकंठ का नाम दिया गया | उनके नाम से यंहा एक नीलकंठ का मन्दिर है जंहा गंगा के पानी की धारा बहती है | इसके आलावा ऋषिकेश की भूमि पर त्रिवेणी घाट है जंहा श्रद्धालु स्नान करके पूण्य कमाते है | इस स्थान पर गंगा , युमना और सरस्वती आदि तीन नदियों का संगम हुआ है | इसलिए इसे त्रिवेणी कहा जाता है | 
लक्षमण झुला
लक्षमण झुला

ऋषिकेश में राम झुला और लक्षमण झुला बहुत प्रसिद्ध है | यह झुला गंगा नदी के एक किनारे को दुसरे किनारे से जोड़ता है | इस झूले पर खड़े होकर आप आस –पास का खुबसुरत नजारा देख सकते है |

हरिद्वार जाने का रास्ता :- हरिद्वार दिल्ली से 225 किलोमीटर की दुरी पर स्थित है | दिल्ली से हरिद्वार जाने के लिए आप ट्रेन या बस ले सकते है | इसके अलाव आप टूर प्लान करके अपनी गाड़ी करके जा सकते है | हरिद्वार पंहुचने के बाद आपको वंहा से टैक्सी या बसे बड़ी आसानी से मिल जाती है | जो आपको पर्यटक स्थल पर पंहुचा देती है |







ऋषिकेश एक धर्मिक स्थल | हरिद्वार शिव की नगरी | Rishikesh Ke Dharmik Sthal , Rishikesh Ke Mandir , Rishikesh ka Itihas , Neelkanth Or Triveni Ghaat |

No comments:

Post a Comment


http://ayurvedhome.blogspot.in/2015/09/pet-ke-keede-ka-ilaj-in-hindi.html







http://ayurvedhome.blogspot.in/2015/08/manicure-at-home-in-hindi.html




http://ayurvedhome.blogspot.in/2015/11/importance-of-sex-education-in-family.html



http://ayurvedhome.blogspot.in/2015/10/how-to-impress-boy-in-hindi.html


http://ayurvedhome.blogspot.in/2015/10/how-to-impress-girl-in-hindi.html


http://ayurvedhome.blogspot.in/2015/10/joint-pain-ka-ilaj_14.html





http://ayurvedhome.blogspot.in/2015/09/jhaai-or-pigmentation.html



अपनी बीमारी का फ्री समाधान पाने के लिए और आचार्य जी से बात करने के लिए सीधे कमेंट करे ।

अपनी बीमारी कमेंट करे और फ्री समाधान पाये

|| आयुर्वेद हमारे ऋषियों की प्राचीन धरोहर ॥

अलर्जी , दाद , खाज व खुजली का घरेलु इलाज और दवा बनाने की विधि हेतु विडियो देखे

Allergy , Ring Worm, Itching Home Remedy

Home Remedy for Allergy , Itching or Ring worm,

अलर्जी , दाद , खाज व खुजली का घरेलु इलाज और दवा बनाने की विधि हेतु विडियो देखे

Click on Below Given link to see video for Treatment of Diabetes

Allergy , Ring Worm, Itching Home Remedy

Home Remedy for Diabetes or Madhumeh or Sugar,

मधुमेह , डायबिटीज और sugar का घरेलु इलाज और दवा बनाने की विधि हेतु विडियो देखे