कैसे रोके स्तन के आकार को बढ़ने और लूज होने से | Breast Ko Loose Hone Se Kaise Roke

कैसे रोके स्तन के आकार को बढ़ने और लूज होने से

जैसा की हम सभी जानते है | लड़कियां अपनी सुन्दरता को लेकर बहुत serious होती है | जैसे :- उन्हें अपना figure shape रखना, fitness में रहना ये सब बहुत अच्छा लगता है | इसलिए देखा जाता है | कुछ लड़कियों की ब्रैस्ट का आकार ज्यादा होने के कारण वह परेशान होती है | या कुछ लड़कियां ब्रैस्ट के आकार छोटे होने से परेशान होती है |

आजकल यह बहुत देखा जाता है | की छोटे स्तनों वाली लड़कियां महिलाएं बहुत tension में रहती है | वो चाहती है कैसे भी करके उनके स्तनों का आकार बढ़ जाए | जिसके लिए वह बहुत से प्रयतन करने को तैयार रहती है | जैसे :- तेल, जैल, क्रीम और अभी बहुत से तरीको को अपनाके अपने स्तनों का आकार बढ़ाना चाहती है | वैसे देखा जाता है कोस्मटिक चीजो का प्रयोग ब्रेस्ट का आकार बढाने के लिए अच्छा उपाए है | साथ ही सर्जरी से भी आप अपने स्तनों का आकार बढ़ा सकती है, लेकिन दुर्भाग्य से सर्जरी कराना आम budget में नहीं होता है | इसलिए महिलाएं इसका लाभ नहीं उठा पाती है |

महिलायों और लड़कियों के लिए स्तनों का आकार बढ़ाने का सबसे अच्छा और सरल उपाए exercise होता है | exercise करने से आपके स्तनों का आकार लूज नही होता है | साथ ही आप exercise करने से अपनी इच्छा के अनुसार स्तनों का आकार बढ़ा भी सकती है और कम भी कर सकती है | exercise करने से आपकी body फिट रहती है और ज्यादा सुन्दर दिखती है | चलिए जानते है कौन सी exercise आपके स्तनों को अच्छा आकार दे सकती है |
कैसे रोके स्तन के आकार को बढ़ने और लूज होने से

भुजंगासन का प्रयोग

भुजंगासन की exercise स्तनों का आकार बढ़ाने के लिए ही की जाती है और यह बहुत ही आसान exercise होती है | इस exercise की shape कोबरा जैसी होती है |जैसे :- भुजंगासन exercise करने के लिए आप सबसे पहले जमीन पर उल्टे लेट जाए उसके बाद अपनी हथेलियों को जमीन पर दबाते हुए अपने शरीर के आगे वाले हिस्से को ऊपर की ओर उठा ले | उसके बाद ध्यान रहे की आपके पेट का आधा हिस्सा ऊपर की ओर उठा हुआ होना चाहिए और पैर जमीन पर बिल्कुल चिपके हुए और सीधे होने चाहिए | ऐसा कुछ second तक जारी रखे उसके बाद आराम आराम से अपना सिर जमीन पर रख ले भुजंगासन करते समय ज्यादा जल्दबाजी से काम नही लेना चाहिए |

भुजंगासन को कम से कम 5 – 6 करते रहे उसके बाद धीरे धीरे समय बढ़ाने की कोशिश करे | अगर आपको हर्निया या कोई बीमारी है तो भुजंगासन exercise को करने से डॉक्टर की सलाह जरुर लेनी चाहिए |
गोमुखासन का प्रयोग स्तनों की बेहतर आकार के लिए
गोमुखासन का प्रयोग स्तनों की बेहतर आकार के लिए 

गोमुखासन का प्रयोग

गोमुखासन को समय हमारे शरीर की आक्रती गाय के मुख के जैसी होती है | इसलिए इससे गोमुखासन कहा जाता है | स्तनों के आकार को बढाने के लिए यह लाभदायक होता है | कमलासन में बैठ कर इसका अभ्यास करना शुरू किया जाता है |
इससे करते समय सबसे पहले आप पैर के ऊपर पैर जमाए उसके बाद left hand को पीछे की तरफ से ऊपर की ओर ले जाए और right hand को सिर के पास से पीछे की ओर नीचे ली तरफ ले जाए | इसी तरह इस आसन को दूसरी तरफ से करे |
उष्ट्रासन से स्तनों का सही आकार


उष्ट्रासन का प्रयोग

यह आसन उष्ट्रासन इसलिए कहा जाता है | क्योंकि इसे करते समय हमारी body की shape देखने में बिल्कुल ऊँट जैसी लगती है | उष्ट्रासन करने के लिए आप सबसे पहले अपने घुटनों पर आराम से बैठ जाए उसके बाद अपने शरीर को घुटनों से ऊपर की और करे | और धीरे धीरे शरीर को पूरा ऊपर उठाले और हाथों को पीछे की तरफ ले जाए और अपनी दोनों ऐडीयों को पकड़ ले | उसके बाद जब आप ये exercise start कर देते है | तो जितना हो सके अपने सिर को पीछे की ओर ले जाएं | और कुछ सेकंडों तक आप इसे करते रहे उसके बाद आप अपनी सुविधा के अनुसार इसे दोबारा कर सकते है | ऐसा daily करने से स्तनों का आकार लूज नही होगा | और इसे स्तनों का आकार भी बढ़ने लगता है |

वृक्षासन योगासन के अभ्यास से होगी आपकी बेहतर ब्रैस्ट का साइज़ और शेप

वृक्षासन का प्रयोग

वृक्षासन ऐसा योग है जो शरीर के balance पर टिका होता है | वैसे यह योग देखने में बहुत आसान लगता है | लेकिन यह करने में उतना ही मुस्किल होता है | इससे वही व्यक्ति कर सकता है जिसके शरीर का संतुलन ठीक होता है |

वृक्षासन करने के लिए सबसे पहले बिल्कुल सीधे खड़े हो जाए | उसके बाद अपना एक पैर दूसरे पैर की जांघ पर रख ले | फिर अपने दोनों हाथो को नमस्ते की स्थिति में करे और धीरे धीरे सांस लेना और छोड़ना शुरू कर दे | कुछ समय तक ऐसा करने के बाद दूसरी दिशा में इसे repeat करे | वृक्षासन करने से स्तनों का आकार बढ़ता है साथ ही स्तनों में blood circulation भी maintain होने लगता है |



द्विकोण का प्रयोग


द्विकोण आसन भी बिल्कुल वृक्षासन की तरह होता है | देखने में यह भी बहुत आसान लगता है | लेकिन करने में बहुत मुस्किल होता है | द्विकोण आसन भी खड़े हो कर ही किया जाता है |


द्विकोण आसन करने के लिए सबसे पहले बिल्कुल सीधे खड़े हो जाए | उसके बाद normal shape में पैरो को खोल ले | उसके बाद दोनों हाथो को सिर के पीछे से ले जाकर अपनी दोनों हाथो की उंगलियाँ आपस में जोड़ कर मिला दे | फिर अपनी पीट को धीरे धीरे आगे की तरफ मोड़ ले | और सांस लेना और छोड़ना शुरू कर दे | द्विकोण करने के लिए 20 – 30 मिनट तक ऐसा ही करते रहे | फिर इससे अपनी मर्जी से दोबारा दोहरा सकते है |द्विकोण आसन करने से स्तनों का आकर आपकी इच्छा के अनुसार बढ़ जाता है |

No comments:

Post a Comment


http://ayurvedhome.blogspot.in/2015/09/pet-ke-keede-ka-ilaj-in-hindi.html







http://ayurvedhome.blogspot.in/2015/08/manicure-at-home-in-hindi.html




http://ayurvedhome.blogspot.in/2015/11/importance-of-sex-education-in-family.html



http://ayurvedhome.blogspot.in/2015/10/how-to-impress-boy-in-hindi.html


http://ayurvedhome.blogspot.in/2015/10/how-to-impress-girl-in-hindi.html


http://ayurvedhome.blogspot.in/2015/10/joint-pain-ka-ilaj_14.html





http://ayurvedhome.blogspot.in/2015/09/jhaai-or-pigmentation.html



अपनी बीमारी का फ्री समाधान पाने के लिए और आचार्य जी से बात करने के लिए सीधे कमेंट करे ।

अपनी बीमारी कमेंट करे और फ्री समाधान पाये

|| आयुर्वेद हमारे ऋषियों की प्राचीन धरोहर ॥

अलर्जी , दाद , खाज व खुजली का घरेलु इलाज और दवा बनाने की विधि हेतु विडियो देखे

Allergy , Ring Worm, Itching Home Remedy

Home Remedy for Allergy , Itching or Ring worm,

अलर्जी , दाद , खाज व खुजली का घरेलु इलाज और दवा बनाने की विधि हेतु विडियो देखे

Click on Below Given link to see video for Treatment of Diabetes

Allergy , Ring Worm, Itching Home Remedy

Home Remedy for Diabetes or Madhumeh or Sugar,

मधुमेह , डायबिटीज और sugar का घरेलु इलाज और दवा बनाने की विधि हेतु विडियो देखे