गिलोय के औषधीय प्रयोग | Giloy Ki Bel Ke Fayde

गिलोय की लता या बेल एक ऐसी वनस्पति है जो अपने गुणों के कारण संसार भर में प्रशिद्ध है , इसके औषधीय गुणों को देखते हुए आयुर्वेदाचार्यों ने इसको अमृत बेल की संज्ञा भी दी है, गिलोय की बेल की डंडी जिसके सहारे ये फैलती है एक ऊँगली और अंगूठे की मोटाई के समान होती है, इसके पत्ते चौड़े और हरे रंग के होते है, कहते है ये लता जिस भी वृक्ष पर चढ़ती है उसके गुण धारण कर लेती है, इसी लिए आयुर्वेद के अनुसार आवले , नीम , जामुन और आम के वृक्ष पर चढ़ी गिलोय की बेल अधिक गुणकारी होती है, इस लता की एक लकड़ी जिसमें गाँठ हो अगर वो जमीन या गमले में उगा दे तो ये अति शीघ्र फलने फूलने लगती है,

गिलोय के औषधीय प्रयोग , Giloy Ki Bel Ke Fayde


गिलोय की बेल के औषधीय गुण : -

  • गिलोय में इतने गुण होते है कि मैं आपको सम्पूर्ण जानकारी शब्दों में बता नहीं सकता,


  • एक चम्मच गिलोय का रस बरसात के मौसम में प्रतिदिन पीया जाये तो बीमार होने की संभावना 50 % कम हो जाती है,  


  • केंसर जैसी घातक बीमारी में यदि रोगी को प्रतिदिन गिलोय जूस , गेहूँ का जवारा रस , तुलसी और नीम के पत्तों का सेवन करवाया जाये तो काफी राहत महसूस होती है ,


  • गिलोय के रस को पीने से बहनों में बाँझपन की शिकायत भी दूर होती है ,


  • खाली पेट यदि इसका सेवन किया जाये तो चर्म रोग जैसे अलर्जी और पित जैसी परेशान करने वाली बीमारी से भी निजात मिलती है , सभी प्रकार की त्वचा संबंधी बीमारी ठीक हो जाती है.


  •    गिलोय की बेल से बना चूरन या पाउडर यदि प्रतिदिन सुबह ताजे पानी से लिया जाये तो खून की कमी और रक्त विकार भी दूर होता है ,


  • गिलोय की लता से बना हुआ सत्व  पीलिया के रोगी के लिए भी बहुत प्रभावशाली होता है,


  • TB , टी बी के मरीज को यदि गिलोय का रस और शहद , इलायची के साथ सेवन करने के लिए दिया जाये तो लाभ मिलेगा.


  • गिलोय की बेल से बने रस को यदि गुड के साथ खाया जाये तो कब्ज की बीमारी ठीक हो जाती है.


  • मलेरिया और डेंगू की बीमारी जो मच्छरों के कारण फैलती है इस बीमारी के इलाज के लिए भी गिलोय का प्रयोग किया जाता है , गिलोय प्लेटलेट को बढ़ाने में मदद करता है .


  • गिलोय के साथ यदि सोठ का सेवन किया जाता है तो वात रोगों में आराम होता है और जोड़ों की जकडन दूर होती है. 
        गिलोय का उपयोग अन्य उपाय

गिलोय का पौधा एक बेल( लता ) की तरह होता है और इसके पत्ते पान के पत्ते की तरह होते है | इस पौधे में कैल्शियम, प्रोटीन और फास्फोरस की मात्रा ज्यादा पाई जाती है | यह पित्तनाशक और कफ नाशक होती है | इसके उपयोग से शरीर में अन्य बीमारियों से लड़ने की शक्ति मिलती है और साथ ही साथ खून की कमी भी दूर होती है | इसे रोजाना घी या शहद के साथ सेवन करना चाहिए |

गिलोय का सेवन करने से पीलिया की बीमारी ठीक हो जाती है | गिलोय का चूर्ण, काली मिर्च का चूर्ण और त्रिफला के चूर्ण को आपस में मिलाकर खाने से पीलिया नामक रोग ठीक हो जाता है |

गिलोय के पौधे के कुछ पत्तों को तोडकर इनका रस निकाल ले और इसमें नीम के पत्ते और आंवला के साथ मिलाकर काढ़ा तैयार करे | इस तैयार काढ़े को पीने से पैरों की जलन दूर हो जाती है |

 गिलोय को पानी में घीसकर थोडा सा गर्म करके कानो में डालने से कान का गंद ( मैल ) बाहर निकल जाता है |
गिलोय का रस और शहद मिलाकर खाने से पेट की सभी बीमारियाँ दूर हो जाती है |

जिस व्यक्ति को खुजली की परेशानी है उन व्यक्ति को गिलोय के पत्तों को पीसकर उसमे हल्दी मिलाकर खुजली वाले स्थान पर लगाने से खुजली ठीक हो जाती है | इसके साथ रोगी व्यक्ति को गिलोय का रस और शहद मिलाकर भी पीना चाहिए | इससे जल्दी ही खुजली का रोग ठीक हो जाता है |
giloy ki bel ke chamatkaari ausdhye prayog, giloye ki lata or bel ko amrit vati bhi kahate hai iska naam amrit ki bel isliye rakha, gaya hai kyoki iske fayde bhaut adhik hote hai, vibhinn rogon mein iska laabh hota hai, sareer ki rogo or bimariyon se ladne ki shakti paida karta hai, giloye ki bel ko ydi hum apne ghar mein lagate hai to bimar hone ki 50 % sambhavna ghat jaati hai, simple bukhaar or fever se lekar cancer jaisi ghatak bimari mein bhi giloye sat or giloye vati laabhkari hai , giloy ki bel se nirmit churan ka nirantar sevan kiya jaye to charm rog, alergy , dengu , piliya or vaat rog , jodo mein jakdan or dard in sabhi bimariyon se mukti milti hai, TB ke patient or mareej ko giloy ke sat ke saath ilaychi ka sevan karne ko de to denu mein jab pletlets cum or kam ho jaate hai to us condition mein giloye ka juice platelets ko increase karne mein madad karta hai, giloy ki bel ke patton ko ydi gud ke saath khaya jaye to kabj ki bimari theek ho jaati hai, giloy ke saath ydi sauth ka sevan kare to neem ke ped par chadi hue or faily hue giloy ki bel ausdhi roop mein adhik gunkari or laabhdayak hai, giloy ki bel se bana churan pratdin or daily morning mein khaane se aapko skin problem nahi rahege, गिलोय की बेल के गुण, गिलोय के फायदे, गिलोय का रस, giloy ki bel ke fayde, giloy rasa, giloy ki bel ka kaadha, गिलोय का काढ़ा, 

No comments:

Post a Comment


http://ayurvedhome.blogspot.in/2015/09/pet-ke-keede-ka-ilaj-in-hindi.html







http://ayurvedhome.blogspot.in/2015/08/manicure-at-home-in-hindi.html




http://ayurvedhome.blogspot.in/2015/11/importance-of-sex-education-in-family.html



http://ayurvedhome.blogspot.in/2015/10/how-to-impress-boy-in-hindi.html


http://ayurvedhome.blogspot.in/2015/10/how-to-impress-girl-in-hindi.html


http://ayurvedhome.blogspot.in/2015/10/joint-pain-ka-ilaj_14.html





http://ayurvedhome.blogspot.in/2015/09/jhaai-or-pigmentation.html



अपनी बीमारी का फ्री समाधान पाने के लिए और आचार्य जी से बात करने के लिए सीधे कमेंट करे ।

अपनी बीमारी कमेंट करे और फ्री समाधान पाये

|| आयुर्वेद हमारे ऋषियों की प्राचीन धरोहर ॥

अलर्जी , दाद , खाज व खुजली का घरेलु इलाज और दवा बनाने की विधि हेतु विडियो देखे

Allergy , Ring Worm, Itching Home Remedy

Home Remedy for Allergy , Itching or Ring worm,

अलर्जी , दाद , खाज व खुजली का घरेलु इलाज और दवा बनाने की विधि हेतु विडियो देखे

Click on Below Given link to see video for Treatment of Diabetes

Allergy , Ring Worm, Itching Home Remedy

Home Remedy for Diabetes or Madhumeh or Sugar,

मधुमेह , डायबिटीज और sugar का घरेलु इलाज और दवा बनाने की विधि हेतु विडियो देखे